सोचता हूँ


सोचता हूँ मैं क्या देखूं
सूरज देखूं या चाँद देखूं,
धरती देखूं या आसमां देखूं,
तारे देखूं या नजारे देखूं,
फूल देखूं या बहार देखूं,
कोई नही है तुझसा यहाँ,
तेरे सिवा मैं क्या देखूं
सोचता हूँ मैं क्या देखूं
इन हवाओं में तू,
इन फ़िज़ाओं में तू,
मेरी हर दुआ में तू
अब ये बादल देखूं या बारिश देखूं
लहरें देखूं या सागर देखूं
एक ख्व्वाब है तू
तुझे देखूं या ख्वाब देखूं
सोचता हूँ मैं क्या देखूं
20160913_142614

 

इन्तेजार


आँखों से नींद अब जाती नही,
तेरे ख़्वाबों का इन्तेजार है
साँसों में अब वो खुशबू आती नही,
तेरे आने का इन्तेजार है
डर लगता है अब सफर में,
कहीं खो न जाऊं मैं
आ कर थामले मुझे,
तेरा इन्तेजार है
20160913_142614

 

बयां मैं कैसे करूँ !!


दो लफ्ज़ की कहानी थी वो,
बयां मैं कैसे करूँ !!
एक पल मिलना था,
दूजे पल बिछड़ना
बयां मैं कैसे करूँ !!
दो जिस्म एक जान थे हम, 
एक दूजे के जहां थे हम
जब मिलना था तो बिछड़े क्यों  
अब ये सज़ा मैं कैसे सहूँ !!
दो लफ्ज़ की कहानी थी वो,
बयां मैं कैसे करूँ !!
ये सच भी मैंने माना था
आग का दरिया था,
और डूब के जाना था
कितने खुश थे हम
मैं शब्दों में कैसे कहूँ !!
दो लफ्ज़ की कहानी थी वो,
बयां मैं कैसे करूँ !!
20160913_142614

उड़ आसमानो में


उड़ आसमानो में,
ख़्वाबों के पंख लिए
लड़ता रह इन हवाओं से,
जब तक भी तू जिए
रोकेंगे राह तेरी
तोड़ेंगे चाह तेरी
चूम उन उचाईयूं को,
बिना किसी की परवाह किये
उड़ आसमानो में,
ख़्वाबों के पंख लिए
आँधियों से न तू डर
कर तूफानों की न फिकर
दो पल में ये थम जाएंगे,
नया एक लक्ष्य छोड़ जाएंगे
रख खुद को तयार,
हर मंजर के लिए
उड़ आसमानो में,
ख़्वाबों के पंख लिए
लंबी तू उड़ान भर
मंजिल हर आसान कर
आग जो उठी है दिल में,
कर रोशन चाहत के दिए
उड़ आसमानो में,
ख़्वाबों के पंख लिए
लड़ता रह इन हवाओं से,
जब तक भी तू जिए
20160913_142614

 

हीर-राँझा


सच हो ही गया वो आज, 
जो अबतक मैंने जाना था
हीर-राँझा का क्या हुआ !!
ये किस्सा बहुत पुराना था

जब रह नही सकते थे दूर,
तो ये दूरियां क्यों बड़ी हैं ?
इस जमीं और आसमां के बीच
ये दुनिया क्यों खड़ी है ?
मिलन होगा अब आसमानो में,
ये भी मैंने माना था
हीर-राँझा का क्या हुआ !!
ये किस्सा बहुत पुराना था

पास हम इतने आये थे
ख्वाब ही थे वो, जो सजाए थे
ये जहाँ रूठे तो क्या,
अपना एक नया जहाँ बनाना था
हीर-राँझा का क्या हुआ !!
ये किस्सा बहुत पुराना था

सच हो ही गया वो आज, 
जो अबतक मैंने जाना था
हीर-राँझा का क्या हुआ !!
ये किस्सा बहुत पुराना था
20160913_142614


Think, Once Again!!

फिर से सोच जरा

Rate this:


Why are you running at the rear of someone’s dream?
When hearty eyes of your’s had a strong goal scream!
In the cognizant of world’s glee, you cast away from your trance?
Else you walked for the smooth footpath chance!

Ask the vital soul within,
This is all, your desire’s craving?
Off from your roots and asset of beloved ones,
You discover only hanging bucks?
Freeze! Hold-Up And Think Again!
Why the daylight of your life is full of woe?
If, you have captured the barrel of this universe a more!
Why still, there is a breeze of terror inside?
Believably , this is not the roadway to your reverie!
Think again!
Think again!

Original : फिर से सोच जरा

Translation by :14470703_1254754097878862_1054506418_n
Ritika Sinha

 


वो ज़िन्दगी ही क्या !


वो ज़िन्दगी ही क्या !
खूबसूरत न जिसकी कहानी हो, 
वो सफर ही क्या !
जिसकी रुत न सुहानी हो, 
वो मंजर ही क्या !
जिसमे न रवानी हो,
वो दरिया ही क्या !
जिसमे न बहता पानी हो, 
वो राह ही क्या !
जिसे चलने में आसानी हो, 
वो दुनिया ही क्या ! 
जो ख्वाबो से न सजानी हो,
वो ख्वाब ही क्या !
जिसकी आग न दिल में लगानी हो, 
वो मंजिल ही क्या !
जिसे पाने की न ठानी हो,
वो इंसान ही क्या !
उबलती न जिसकी जवानी हो

वो ज़िन्दगी ही क्या !

खूबसूरत न जिसकी कहानी हो
20160913_142614


 

There’s a world beyond the sky

एक जहाँ और भी है

Rate this:


There’s a world beyond the sky, where you would like to stay.
This is your destination? but there is also another way.
Why do you stop right now?
There’s still something for which you pray.
There’s a world beyond the sky, where you would like to stay.
You accomplished all the desires of your dream,
Happiness is shining in your life like sun’s gleam.
Why do you stop dreaming right now?
There’s still something for which you pray.
There’s a world beyond the sky, where you would like to stay.
Don’t mistake it as an ending, a new start this is.
Don’t give up, the truth of life this is.
Why do you stop trying right now?
There’s still something for which you pray.
There’s a world beyond the sky where you would like to stay.

Original: एक जहाँ और भी है

Translation By: Harsh Jain (Fab Writings)22-10-55-images
 

एक जहाँ और भी है

So here it is 🙂 first translation 🙂
I am feeling very happy to get english translation for my poem एक जहाँ और भी है
Thank you Harsh Jain(Fab Writings) 🙂

मेरी कलम से...


आसमां के उस पार एक जहाँ और भी है
मंजिल पर है तू मगर, एक राह और भी है
रुकता क्यों है तू अभी से,
तेरी एक चाह और भी है
आसमां के उस पार एक जहाँ और भी है
ख्वाब जो देखे थे तूने
सच वो सारे करदिए
पल वो सारे खुशिओं के
जीवन में अपने भर दिए
आंख क्यों खोलता है अभी से,
तेरा एक ख्वाब और भी है
आसमां के उस पार एक जहाँ और भी है
अंत नही है ये,
नई एक शुरुवात है ये
जीवन के सच से तेरी मुलाक़ात है ये
बैठता क्यों है तू अभी से,
नया एक लक्ष्य और भी है
मंजिल पर है तू मगर एक राह और भी है
आसमां के उस पार एक जहाँ और भी है
20160913_142614
   

There’s a world beyond the sky

Translation By:
Harsh Vijay            22-10-55-images
Fab Writings

There’s…

View original post 135 more words

Submit Your Poem

screenshot_2016-09-25-16-52-42

Hello guys ! After getting so much of love, support and appreciation from your side, I am so inspired to improve my blog in much beautiful ways. Recently, I got few suggestions about translating my poems to English. So, I came up with this idea. How about, you fellow bloggers help me translating my poems to English and make a beautiful piece of literature with your creativity and expressions.
Don’t worry !! proper credits will be given along with your blog link and your work will be appreciated on मेरी कलम से also. By this your blog will get an extra benefit.
So, if anyone of you is really interested and you want to give a beautiful touch to my poetry, you are most welcome. Just pick any one of my poem, which u like most and give it your touch 🙂
Please visit SUBMIT YOUR POEM section on my blog and fill up the registration form. Together we can create a masterpiece 🙂
Moreover, if any one(blogger or non-blogger) wants to publish their work on मेरी कलम से,
they can also submit their poem on SUBMIT YOUR POEM section. But as in starting, only Hindi poems will be accepted and proper credits will be given to them also. So, I think this is a great chance for all those, who have ever written something beautiful but can’t post or publish it, I will provide a platform for those hidden talents because I am also like you 🙂 🙂
I have more interesting ideas and news for you all, which i will share with you in future. So, keep connected 😉 Hoping for your support
Keep Blogging, Keep Reading 🙂
Thank You !!
if you have queries feel free to comment or you can also mail your query at merikalamse@hotmail.com
🙂
Visit Submit Your Poem