अब कोई नहीं रहता !!


मेरे दिल में…
अब कोई नहीं रहता !!
दस्तकें होती हैं, लेकिन
चुप ये रहता है,
ये उनसे कुछ नहीं कहता…
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
खामोशी वहां रहती है,
जहाँ शोर था कभी मचता…
खुशियां बहती थीं पहले तो,
बस अब सिर्फ खून है बहता…
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
दीवारें अब मैली हैं…
यादों की धूल जो फैली है…
कमजोर नहीं था दिल मेरा भी !!
पर कबतक वो यूँही सहता !!
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
अँधेरे ही अँधेरे अब दिखने लगे हैं,
क़दमों के निशाँ थे जो, अब मिटने लगें हैं…
चहल-पहल रहती पहले तो !!
अब क्यों !! आहत से भी है डरता ??
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
मेरे दिल में…
अब कोई नहीं रहता !!
20160913_142614

Advertisements

मुझे शौक था !!

 


जल गया खुद ही ख़्वाबों में अपने…
मुझे अंगारों से खेलने का शौक था !!
लूट गया खुद ही मोहब्बत में अपनी…
मुझे तुमसे दिल लगाने का शौक था !!
न मुकाम का पता था, ना अंजाम मालुम था !!
चलपड़ा था मै तो यूँही राहों पर…
मुझे सफर में खोजाने का शौक था !!
जमीन हूँ मै, आसमान तुम हो
काट ही लिए हवाओं ने पंख मेरे,
मुझे ऊँची उड़ान भरने का शौक था !!
निकला था मै तो साहिल पाने को \
बीच मझदार डूब गयी कश्ती मेरी,
मुझे लहरों से खेलने का शौक था !!
मालुम था मुझे की राहें जुदा है अपनी
क्या पता किस मोड़ पे मिलजाते तुम
मुझे किस्मत आजमाने का शौक था !!
जल गया खुद ही ख़्वाबों में अपने…
मुझे अंगारों से खेलने का शौक था !!
मुझे !! तुमसे दिल लगाने का शौक था…

20160913_142614


 

फिर से सोच जरा

मेरी कलम से...


क्यों भागता है तू, सबके ख़्वाबों के पीछे
तूने भी तो देखे थे कुछ ख्वाब, लक्ष्यों को खींचे
कहीं भटक तो नही गया तू, सबको खुश करने में?
या चुन लिए वो रास्ते जो सरल थे चलने में?

जरा पूछ खुदसे क्या यही थे ख्वाब तेरे !!

सबसे दूर है तू, केवल दौलत है पास तेरे?
रुक, ठहर, सोच जरा
ये दिन चिंताओं से क्यों है भरा
पा तो लिया सबकुछ तूने,
फिर भी क्यों है तू डरा डरा ? 
शायद नही यह राह वो मंजिल पाने की,
फिर से सोच जरा
फिर से सोच जरा
20160913_142614

Think, Once Again!!

Translation By:
Ritika Sinha 14470703_1254754097878862_1054506418_n
Why are you running at the rear of someone’s dream?
When hearty eyes of your’s had a strong goal scream!
In the cognizant of world’s glee, you cast away from your trance?
Else you walked for the smooth footpath chance!
Ask the vital soul within,

View original post 69 more words