दोराहें


दोराहे पर हूँ खड़ा
इस सोच में हूँ पड़ा
राह कौन सी जाऊँ मै ।
किस ओर पाँव बढाऊँ मै
एक तरफ हैं कंकड़ काँटें,
एक तरफ फुलवारी है !!
एक तरफ है ग़म के बादल,
एक तरफ खुशहाली है !!
अब खुदको क्या समझाऊँ मै,
राह कौन सी जाऊँ मै ।।
एक तरफ है उगता सूरज,
एक तरफ परछाई है !!
एक तरफ है झूटी दुनिया,
एक तरफ सच्चाई है !!
कहीं खो न जाऊँ इस जाल में कैसे मंजिल पाऊँ मै,
किस ओर कदम उठाऊं मै
राह कौन सी जाऊं मै ।।।


ख्वाबों के पन्नों पर…


ख्वाबों के पन्नों पर लिख रहा हूँ कविता

ख्वाबों के पन्नों पर लिख रहा हूँ कविता ।।

जाग जाऊं अगर तो पढलेना…

यादें शब्द हैं, ज़ज़्बात हैं अक्शर

समझ सको तो समझ लेना…

जाग जाऊं अगर तो पढलेना ।।

वो पन्नें थोड़े खुरदुरे हैं, थोड़े मुड़े

हो सके तो संजोलेना..

जाग जाऊं अगर तो पढलेना ।।

ज़मीन शुरुआत है, आसमान हैं अंत

चाँद सूरज क्या तारे हैं अनगिनत

गिन सको तो गिन लेना…

जाग जाऊं अगर तो पढलेना ।।

यह ख्वाब न पूरा था न हुआ

छोड़ रहा हूं अधूरा,

कर सको पूरा तो करदेना…

ख्वाबों के पन्नों पर लिख रहा हूं कविता…

जाग जाऊं अगर तो पढलेना।।


हूँ मैं उदास ये किसने कहा ।।


न कुछ पाने को है….
न कुछ खोने को रहा…
हूँ मैं उदास ये किसने कहा ।।
जीने को साँसे हैं, कहने को यादें
आज तुम कहीं मैं कहाँ…
हूँ मैं उदास ये किसने कहा ।।
फूल थे खिले, कांटें थे कहीं…
रास्ता था कठिन, सफर था जवां
मंजिल थी कहीं और हम चल दिए कहाँ…
न कुछ पाने को है…
न कुछ खोने को रहा…
हूँ मैं उदास ये किसने कहा ।।

अब कोई नहीं रहता !!


मेरे दिल में…
अब कोई नहीं रहता !!
दस्तकें होती हैं, लेकिन
चुप ये रहता है,
ये उनसे कुछ नहीं कहता…
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
खामोशी वहां रहती है,
जहाँ शोर था कभी मचता…
खुशियां बहती थीं पहले तो,
बस अब सिर्फ खून है बहता…
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
दीवारें अब मैली हैं…
यादों की धूल जो फैली है…
कमजोर नहीं था दिल मेरा भी !!
पर कबतक वो यूँही सहता !!
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
अँधेरे ही अँधेरे अब दिखने लगे हैं,
क़दमों के निशाँ थे जो, अब मिटने लगें हैं…
चहल-पहल रहती पहले तो !!
अब क्यों !! आहत से भी है डरता ??
मेरे दिल में अब कोई नहीं रहता !!
मेरे दिल में…
अब कोई नहीं रहता !!
20160913_142614

मुझे शौक था !!


जल गया खुद ही ख़्वाबों में अपने…
मुझे अंगारों से खेलने का शौक था !!
लूट गया खुद ही मोहब्बत में अपनी…
मुझे तुमसे दिल लगाने का शौक था !!
न मुकाम का पता था, ना अंजाम मालुम था !!
चलपड़ा था मै तो यूँही राहों पर…
मुझे सफर में खोजाने का शौक था !!
जमीन हूँ मै, आसमान तुम हो
काट ही लिए हवाओं ने पंख मेरे,
मुझे ऊँची उड़ान भरने का शौक था !!
निकला था मै तो साहिल पाने को \
बीच मझदार डूब गयी कश्ती मेरी,
मुझे लहरों से खेलने का शौक था !!
मालुम था मुझे की राहें जुदा है अपनी
क्या पता किस मोड़ पे मिलजाते तुम
मुझे किस्मत आजमाने का शौक था !!
जल गया खुद ही ख़्वाबों में अपने…
मुझे अंगारों से खेलने का शौक था !!
मुझे !! तुमसे दिल लगाने का शौक था…

20160913_142614


तुम थे !!


लम्हे वो प्यार के जिए थे जो, वजह तुम थे !!
ख्वाब जन्नत के सजाये थे जो, वजह तुम थे !!
दिल का करार तुम थे,
रूह की पुकार तुम थे…
मेरे जीने की वजह तुम थे !!
लबों पे हँसी थी जो , वजह तुम थे !!

आँखों में नमी थी जो, वजह तुम थे !!
रातों की नींद तुम थे,
दिन का चैन तुम थे…
मांगी थी जो रब से वो दुआ तुम थे !!
मेरी दीवानगी तुम थे,
मेरी आवारगी तुम थे…
बनाया मुझे शायर,
वो शायरी तुम थे !!
तुम थे तो हम थे,
मेरी जिंदगी तुम थे !!
ज़िन्दगी !! यूँ तो न थी 
तेरे आने से पहले
तेरे जाने के बाद
तुम थे तो ये शामें थी
जिसमे हम चाहत के पंख लगाए, 
आसमानो में उड़ते थे
दीवानगी !! यूँ तो न थी
तेरे आने से पहले 
तेरे जाने के बाद
तुम थे तो ये यादें थी !!
जिसमे हम तुम खोए हुए, 
ख्वाब सजाया करते थे
आवारगी !! यूँ तो न थी
तेरे आने से पहले 
तेरे जाने के बाद 
तुम थे तो ये रातें थी !!
जिसमे हम चांदनी में नहाये, 
तारों की सैर किया करते थे
सादगी !!यूँ तो न थी
तेरे आने से पहले 
तेरे जाने के बाद 
तुम थे तो वो बातें थी !!
जिसमे में हम हस्ते हुए,
खो जाया करते थे
मैं यूँ तो न था
तेरे आने से पहले
तेरे जाने के बाद
एक शाम वो थी, एक शाम ये है
ये हवाएं तब भी थी, ये घटायें तब भी थी
फर्क सिर्क इतना है
तब तुम थे !!!
एक रात वो थी, एक रात ये है
ये ख़ामोशी तब भी थी, ये चांदनी तब भी थी
फर्क सिर्क इतना है
चाँद तब तुम थे !!!
वो दिन भी थे जो बीत गए जो बीते थे साथ तेरे
अब तुम नही तो कुछ नही और क्या होगा साथ मेरे
ख्वाब ख्वाब में ख्वाब सजाकर ख्वाब जो मैंने देखे थे
वो ख्वाब सारे टूट गए, पल वो सारे रूठ गए
और मैं… अब ये सोचता हूँ
एक वो वक़्त था, एक ये वक़्त है
ये जुदाई तब न थी, ये तन्हाई तब न थी
हाँ तब तो हम खुश थे !! साथ मेरे…
जब तुम थे !!!
20160913_142614

चल मुसाफिर चल !!


चल मुसाफिर चल
चलते है तुझे रहना…
लहरों से खेल कर,
अब तुझे है बहना…
चल मुसाफिर चल,
चलते है तुझे रहना…
किस सोच में पड़ा तू !!
किस मोड़ पे खड़ा तू !!
अब खुद से बस ये कहना
चल मुसाफिर चल,
चलते है तुझे रहना…
ख्वाहिशें तमाम हैं,
पाना तुझे मुकाम है
अब चाहतों की आग में
जल कर भी तुझे है सहना
चल मुसाफिर चल,
चलते है तुझे रहना…
साथ क्या लाया था तू ??
लेकर क्या जाएगा !!
ये सफर ही है मुसाफिर ,
जो संग तेरे रह जाएगा
बैठ क्यों गया तू !!
किस सोच में पड़ा तू
उठ !! अभी मत रुकना
चल मुसाफिर चल,
चलते है तुझे रहना…20160913_142614

तुमने पुकारा होगा


दिल मेरा धड़का है आज,
तुमने पुकारा होगा

अश्क़ का एक कतरा,
आँख से उतारा होगा
बरसेंगे बादल झूमके !!
आसमान को तो देखो,
रब का कोई तो इशारा होगा
दिल मेरा धड़का है आज,
तुमने पुकारा होगा !!
हवाओं में खुशबू है जो, तेरे साँसों की
फ़िज़ाओं में नमी है जो, तेरे आँखों की
बहक भी जाऊं अगर, तो यकीन है मुझे
कि तेरी बाहों का सहारा तो होगा !!
दिल मेरा धड़का है आज,
तुमने पुकारा होगा
आ चल चलें कहीं दूर….
यादों कि कश्ती में बैठके
तूफ़ान भी आ जाएं तो क्या
कहीं तो किनारा होगा !!
अश्क़ का एक कतरा,
आँखों से उतारा होगा
दिल मेरा धड़का है आज,
तुमने पुकारा होगा….

20160913_142614


See more on pennpoets.com
Sign up for pennpoets.com and share your poems with the world & shine in the ocean of poetry


कुछ कहना चाहते हो क्या !!


चुप-चुप से रहते हो
कुछ कहना चाहते हो क्या !!
मुस्कुराते रहते हो
कोई दर्द छिपाते हो क्या !!
आँखें तुम्हारी उदास-उदास क्यों हैं?
ग़मों की धूल जमी है क्या !!
बहने भी दो इनको,
आँसूं बचाते हो क्या !!
चुप चुप से रहते हो
कुछ कहना चाहते हो क्या !!
समझेंगे जज्बात तुम्हारे,
बैठो कभी पास हमारे
जान जाऊंगा राज सारे !!
इसलिए घबराते हो क्या ?

चुप चुप से रहते हो
कुछ कहना चाहते हो क्या !!

20160913_142614


बातें दिलों की


दूरी मीलों की,
और बातें दिलों की
सोचता हूँ मैं कैसे कहूं !!
तुम होते तो कह देता
किनारा हूँ मैं,
और तुम लहरें झीलों की
सोचता हूँ मैं कैसे कहूं
बातें दिलों की !!
बातें दिलों की,
और दूरी मीलों की
सोचता हूँ मैं कैसे सहूँ !!
तुम होते तो सह लेता
अन्धेरा हूँ मैं,
तुम रौशनी दीपों की
सोचता हूँ मैं कैसे कहूं
बातें दिलों की !!

20160913_142614